Free Online Ayurvedic Doctor Consulting. Contact No - 8624087060

Shilajit Powder (20%off)

Rs. 2640




Description

शिलाजीत को  भारतीय  आयुर्वेदिक  चिकित्सा  पद्धति  में  सबसे  महत्वपूर्ण  पदार्थों  में  से  एक  माना  जाता  है। यह लंबी उम्र और कई अन्य बीमारियों के लिए हजारों वर्षों से उपयोग किया जा रहा है। शिलाजीत एक मोटा, काले-भूरे रंग का खनिज तारकोल है, जो हिमालय पर्वतों में दरारें से गर्मियों में तापमान बढ़ने पर बाहर निकल जाता  है। शिलाजीत सदियों पुराने, विघटित पौधों से बना है जो कि विटामिन, खनिज और अन्य पोषक तत्वों का शक्तिशाली स्रोत हैं। यह एक शक्तिशाली अनुकूलन है, जो सभी प्रकार के मानसिक और शारीरिक तनाव से बचाव में मदद करता है।
 

शिलाजीत के लाभ: 

1. ऊर्जा और पुनरोद्धार प्रदान करता है:
सदियों से, आयुर्वेदिक दवाओं के चिकित्सकों ने ऊर्जा को बढ़ावा देने और शरीर को पुनर्जन्मित करने के लिए शिलाजीत का उपयोग किया है। शरीर के भीतर मिटोकोंड्रिया के कार्य को बढ़ाकर यह शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है। यह जड़ी बूटी शरीर को मजबूत एंटीऑक्सिडेंट गुणों के साथ पुनर्जीवित करती है। रोग पैदा करने वाले मुक्त कणों से लड़ कर, यह रसायनों और अन्य खतरनाक एजेंटों की वजह से होने वाले शरीर के आंतरिक नुकसान की मरम्मत करता है। 

2. मस्तिष्क स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है:
अध्ययनों से पता चलता है कि इसमें विशेष न्यूरोप्रोटेक्टेव क्षमता है। यह अविश्वसनीय पोषक तत्व अल्जाइमर रोग के हल्के मामलों का इलाज करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा, शिलाजीत अपस्माररोधी गुण दिखाता है। 

3. हार्मोन और इम्यून सिस्टम को नियंत्रित करता है:
शिलाजीत का एक और महत्वपूर्ण कार्य यह है कि यह विभिन्न शरीर प्रणालियों को नियंत्रित करता है, जैसे कि आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली और हार्मोन का संतुलन। 

4. यह दर्द को दूर करता है।

5. यह एक शक्तिशाली प्रतिरक्षा प्रणाली बूस्टर के रूप में कार्य करता है।

6. मधुमेह को प्रबंधित करने में मदद करता है: 
शिलाजीत मधुमेह रोगियों में रक्त ग्लूकोज और लिपिड प्रोफाइल को कम करने में मदद कर सकता है। 

7. कैंसर से बचाव और रक्षा में मदद करता है:
शिलाजीत विभिन्न प्रकार के कैंसरों के लिए विषाक्त पाया गया है, जिनमें फेफड़े, स्तन, कोलन, डिम्बग्रंथि और यकृत कैंसर शामिल हैं। 

8. सूजन कम करता है और वायरस से लड़ता है:
यह गैस्ट्रिक अल्सर के उपचार और रोकथाम, तथा उनसे संबंधित सूजन को कम करने में प्रभावी है।

9. यह कंकाल स्वास्थ्य का समर्थन और सुधार करता है।

10. दिल और रक्त के लिए अच्छा है:
हर एक खुराक में पाए जाने वाले लोहे की उच्च उपस्थिति के कारण यह एनीमिया के उपचार में भी प्रभावी होता है।

11. व्यसनों को तोड़ने में मदद करता है:
अन्य दवा पदार्थों के साथ अपनी अनूठी बातचीत के कारण, शिलाजीत का लत को तोड़ने की प्रक्रिया पर गहरा प्रभाव पड़ता है। जब ओपिओइड रोगियों को दिया जाता है तो यह वास्तविक व्यसन कम करता है और वापसी के लक्षण कम करता है।

12. यह व्यापक रूप से यौन उत्थानकारी के रूप में उपयोग किया जाता है। 
 

शिलाजीत के दुष्प्रभाव:
यदि सही तरीके से और सही मात्रा में लिया जाता है, तो शिलाजीत किसी भी गंभीर दुष्प्रभाव से सम्बंधित नहीं है। परंतु यदि अधिक मात्रा में लिया जाए तो निम्न दुष्प्रभाव होने की संभावना है:

1. शरीर में अत्यधिक गर्मी उत्तेजना।
2. पैरों में जलन का अहसास।
3. हाथ और पैरों में अधिक गर्मी महसूस करना।
4. पेशाब में वृद्धि या कमी।
5. एलर्जी: यदि आप शिलाजीत में मौजूद किसी भी मिश्रित या घटक के एलर्जी है। यदि आप एलर्जी की प्रतिक्रिया के लक्षणों को देखते हैं, जिसमें मतली, चक्कर आना, दिल की दर बढ़ने, खुजली आदि शामिल हैं, तो शिलाजीत का उपयोग करना बंद कर दें।