Free Online Ayurvedic Doctor Consulting. Contact No - 8624087060

Jaiphal Akkha

Rs. 650




Description

 

जायफल के स्वास्थ्य लाभ

जायफल को खाने में स्&zwjवाद बढ़ाने के लिए उपयोग किया जाता है। लेकिन यह खाने में स्&zwjवाद बढ़ाने के साथ-साथ कई छोटी-मोटी समस्&zwjयाओं से भी निजात दिलाता है। आयुर्वेद में जायफल को बहुत महत्&zwjव है। जायफल आपकी पेट संबंधी और त्&zwjवचा संबंधी समस्&zwjयाओं को दूर करने में भी मदद करता है। क्&zwjया आप जानते हैं कि जायफल आपकी सेहत के लिए कितना महत्&zwjवपूर्ण है। Image Courtesy: Getty Images

झुर्रियों से निजात दिलाये

यदि आप चेहरे पर पड़ी झुर्रियों से परेशान है तो आपको जायफल का इस्&zwjतेमाल करना चाहिए। चेहरे की झुर्रियां मिटाने के लिए जायफल को पीसकर उसका लेप बनाकर झुर्रियों पर एक महीने तक लगाने से झुर्रियों से निजात पाई जा सकती है। इसके अलावा इसके इस्&zwjतेमाल से चेहरे पर मुहांसे और मुहांसों से होने वाले दाग भी साफ होते हैं। Image Courtesy: Getty Images

रक्त संचार बढ़ाये

जायफल से मालिश करने से रक्त संचार सही प्रकार से होता है। शरीर में रक्तसंचार ठीक प्रकार से होने से नींद अच्&zwjछी आती है और आप दिनभर चुस्&zwjती-फुर्ती का अनुभव करते है। इसके अलावा नियमित रूप से रात को गरम दूध में जायफल का पाउडर डाल कर पीने से भी अच्&zwjछी नींद आती है।

दांत दर्द दूर भगाये

दांत दर्द में जायफल का तेल बहुत फायदेमंद होता है। दांत दर्द होने पर जायफल का तेल रूई से दांत की जड़ में लगाने से दर्द में आराम मिलता है। ज्&zwjयदातर टूथपेस्&zwjट में भी दालचीनी और जायफल मिलाया जाता है।

बच्&zwjचों के लिए लाभकारी

कई बार छोटे बच्&zwjचों को दूध हजम नहीं होता है। ऐसे में बच्&zwjचों के दूध में आधा पानी और एक जायफल मिलाकर उबालकर और कुछ ठंडा होने पर पिलाने से बच्&zwjचों को दूध हजम होने लगता है।

लीवर और किडनी के लिए उपयोगी

विषाक्त तत्&zwjवों को ब&zwjाहर निकलना, अच्छे स्वास्थ्य का एक महत्वपूर्ण कारक है। आहार, प्रदूषण, तनाव, तंबाकू, दवा और अन्य बाहरी पदार्थों के कारण अंगों में विषाक्त पदार्थ इकट्ठा होने लगते है। आमतौर पर किडनी और लीवर जैसे अंगों पर विषाक्त पदार्थ का निर्माण होता हैं। एक टॉनिक के रूप में जायफल किडनी और लीवर को साफ करता है और इन विषाक्त पदार्थों बाहर करता है। अगर आप लीवर की बीमारी से पीड़ित हैं तो जायफल फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा जायफल भी किडनी की पथरी को रोकने और बाहर निकालने में भी प्रभावी होता है।नेत्र ज्&zwjयोति बढ़ाए

अगर आपकी आंखे लगातार कमजोर हो रही हैं तो आपके लिए जायफल बहुत फायेदमंद साबित हो सकता है। इसके लिए  पत्थर पर पानी के साथ जायफल को घिसकर लेप तैयार कर लें। इस लेप को आंखों की पलकों पर और आंखों के चारों तरफ लगाने से आंखों की रोशनी बढ़ती है। 

ब्रेन टॉनिक

प्राचीन काल के दौरान, रोमन और ग्रीक सभ्यता जायफल का इस्&zwjतेमाल ब्रेन टॉनिक के रूप में करते थे। ऐसा इसलिए होता था क्&zwjयोंकि जायफल प्रभावी ढंग से मस्तिष्क को उत्तेजित कर सकता हैं। नतीजतन, यह थकान और तनाव को खत्म करने में मदद कर सकता हैं। अगर आप चिंता या अवसाद से पीड़ित हैं, तो जायफल आपके लिए एक अच्छा उपाय हो सकता है। इसको खाने से आपको कभी एल्&zwjजाइमर की बीमारी भी नहीं होगी।

दर्द निवारक

जायफल को एक प्रभावी दर्दनिवारक भी कहा जाता है। जायफल के इस मसाले का इस्&zwjतेमाल सूजन और पेट दर्द के इलाज के लिए किया जाता है। अगर आप जोड़ों में दर्द, मांसपेशियों में दर्द, गठिया, घावों और अन्य बीमारियों से जूझ रहे हैं तो जायफल का प्रयोग करें। दर्द को राहत देने के प्रभावित क्षेत्रों पर जायफल का तेल लागने से फायदा होता है।

पाचन संबंधी समस्याओं से राहत

अगर आप पाचन संबंधी समस्याओं जैसे दस्त, कब्ज, सूजन और पेट फूलना आदि से पीड़ित हैं तो जायफल प्रभावी रूप से आपको राहत प्रदान कर सकता हैं। जायफल का तेल आंतों से अधिक गैस निकाल कर पेट दर्द से राहत देता है। जायफल के सेवन से भूख न लगने की समस्&zwjया से भी निजात पाई जा सकती है। 

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ता है

जायफल आहार में स्&zwjवाद बढा़ने के साथ-साथ शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढता है। जायफल में मौजूद मिनरल के अलावा पोटैशियम, कैल्&zwjशियम, आयरन और मैगनीशियम शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

लीवर और किडनी के लिए उपयोगी

विषाक्त तत्&zwjवों को ब&zwjाहर निकलना, अच्छे स्वास्थ्य का एक महत्वपूर्ण कारक है। आहार, प्रदूषण, तनाव, तंबाकू, दवा और अन्य बाहरी पदार्थों के कारण अंगों में विषाक्त पदार्थ इकट्ठा होने लगते है। आमतौर पर किडनी और लीवर जैसे अंगों पर विषाक्त पदार्थ का निर्माण होता हैं। एक टॉनिक के रूप में जायफल किडनी और लीवर को साफ करता है और इन विषाक्त पदार्थों बाहर करता है। अगर आप लीवर की बीमारी से पीड़ित हैं तो जायफल फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा जायफल भी किडनी की पथरी को रोकने और बाहर निकालने में भी प्रभावी होता है।