Free Online Ayurvedic Doctor Consulting. Contact No - 8624087060

Nagkesher Akkha (10%off)

Rs. 720




Description

नागकेसर के लाभ

1. खूनी बवासीर : मक्खन-मिश्री के साथ नागकेशर का सेवन करने से खूनी बवासीर में लाभ होता है। इसे रात्रि को पानी में भिगोकर और प्रात:काल छानकर शहद मिलाकर भी पिया जाता है। प्रवाहिका आदि में आमपाचन के लिए भी इसका उपयोग किया जाता हैं।2. गर्भधारण के लिए : 5 ग्राम नागकेशर को कूट पीस कर उसके चूर्ण को बकरी के दूध के साथ माहवारी के बाद सेवन करने से गर्भ अवश्य ही ठहरता है।

3. खाँसी : नागकेसर के जड़ और छाल का काढ़ा बनाकर पीने से खाँसी में बहुत लाभ मिलता है।

4. खुजली : पीले नागकेसर के तेल को खुजली वाले स्थान पर लगाने से खुजली मिट जाती है। चर्म रोग के लिए भी पीले नागकेसर के तेल का प्रयोग किया जाता है।

5. गठिया रोग : नागकेसर के बीज के तेल से मालिश करने से गठिया रोग में बहुत आराम मिलता है। जोड़ों के दर्द के लिए भी नागकेसर के तेल की मालिश बहुत उपयोगी है।

6. खूनी दस्त : नागकेसर को गाय के दूध का बना मक्खन के साथ सेवन करने से खूनी दस्त ठीक हो जाता है।
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

7. अन्य रोग : संधिवात, रक्तपित्त तथा रक्तप्रदर में भी नागकेशर का प्रयोग लाभप्रद होता है।